Kumar Vishwas biography in Hindi | कुमार विश्वास का जीवन परिचय

कुमार विश्वास का जीवन परिचय

हमारे देश में आज तक कई सारे ऐसे कवियों  को देखा गया है जिन्होंने अपनी अपनी भाषा को आगे लाने का काम किया है|  वैसे तो हमारे देश की मातृभाषा हिंदी है लेकिन फिर भी लोग  अपनी भाषा में लिखना ज्यादा पसंद करते हैं|  ऐसे में अगर कोई ऐसा व्यक्ति या  कवि हमारे सामने आता है, जो हमारी मातृभाषा को लोगों के सामने लाने का प्रयत्न करता है,  तो इससे अच्छी बात कोई और  नहीं हो सकती| ऐसे ही हमारी हिंदी भाषा को लोगों के सामने बेहतर तरीके से प्रस्तुत करने का कार्य एक हिंदी भाषी कवि ने किया है जिनका नाम है श्री Kumar Vishwas

इसी कड़ी को आगे बढ़ाते हुए आज हम आपको श्री Kumar Vishwas जी के बारे में संपूर्ण जानकारी देने जा रहे हैं, उम्मीद करते हैं आपको पसंद आएगी|

कुमार विश्वास का जन्म

Kumar Vishwas

 हिंदी साहित्य के अनमोल रत्न श्री Kumar Vishwas जी का जन्म 10 फरवरी 1970 को  उत्तर प्रदेश में हुआ था| इनका पूरा नाम श्री Kumar Vishwas शर्मा है। इन के पिताजी का नाम  डॉक्टर चंद्रपाल शर्मा है और माता का नाम रमा शर्मा  है |  इनकी पत्नी का नाम श्रीमती मंजू शर्मा है| यह युवाओं के बीच बेहद लोकप्रिय कवि के रूप में जाने जाते हैं,  जो अपनी कविता को  गायन के रूप में प्रस्तुत करते हैं| श्री कुमार विश्वास हिंदी भाषा के प्राध्यापक भी रह चुके हैं|

इनकी शिक्षा

श्री Kumar Vishwas जी ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा लाल गंगा सहाय विद्यालय  से प्राप्त की। उसके बाद राजपूताना रेजीमेंट इंटर कॉलेज से 12   पास की|  उसके बाद उन्होंने इंजीनियरिंग की पढ़ाई की शुरुआत की क्योंकि उनके पिताजी यही चाहते थे|  लेकिन उनकी इंजीनियरिंग में खास रूचि ना होने के कारण उन्होंने अपनी इंजीनियरिंग को बीच में ही छोड़ दिया और उसके बाद हिंदी साहित्य में स्नातक और स्नातकोत्तर की डिग्री प्राप्त की  जिसमें उन्हें गोल्ड मेडल मिला|  उसके बाद उन्होंने’’ भैरवी लोकगीतों में लोक चेतना’’ पर पीएचडी किया और अब उनका नाम देश के प्रसिद्ध कवियों में एक माना जाता है|

कुमार विश्वास की प्रमुख उपलब्धियां

 Kumar Vishwas जी ने अपने जीवन में कई प्रकार की उपलब्धियां प्राप्त की जो उनकी मेहनत का ही परिणाम साबित हुआ|  उन्होंने अपना सफर एक प्रवक्ता के रूप में शुरू किया लेकिन धीरे-धीरे कवि सम्मेलन में जाना उनके लिए महत्वपूर्ण होने के बावजूद भी उन्होंने प्रवक्ता के लिए समय निकाला|  धीरे धीरे उन्हें प्रवक्ता के लिए समय नहीं मिल पाया और पूर्ण रूप से कवि के रूप में खुद को स्थापित करने में योगदान दिया|  इसके अलावा वे हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में भी कई सारे गीतो   के गीतकार रहे| 

श्री हरिशंकर परसाई का जीवन परिचय
ईश्वर चंद्र विद्यासागर के गुण
कालिदास का जीवन परिचय

 उनकी कविताओं को श्रृंगार  रस से ओतप्रोत देखा गया। सुंदर कविता के धनी Kumar Vishwas को महान कवियों के प्रोग्राम ‘’तर्पण’’ में अपनी आवाज देते हुए सुना गया|  उनके द्वारा लिखी गई दो पुस्तकों को भी प्रकाशित किया गया जिनमें पहली ‘’ एक पगली लड़की के बिन’’ 1996, ‘’और कोई दीवाना कहता है ‘’2007/ 2010 रही|  इसके अलावा  हिंदी गीतकार नीरज ने उन्हें  ‘’निशा नियामक’’ कहा  और डॉक्टर सुरेंद्र शर्मा ने उन्हें’’ ISO 2006 ‘’ कहा है|

श्री कुमार विश्वास को मिलने वाले प्रमुख मंच

Kumar Vishwas जी के हिंदी साहित्य का जादू उन्होंने कई सारे जगह पर बिखेरा है जिसमें लोगों की वाहवाही भी प्राप्त हुई है|  उन्होंने कई नई जगह पर अपने प्रोग्राम दिए हैं जहां पर उन्हें सुनने के लिए लोग इच्छुक होते हैं|  इनमें से प्रमुख जगह आईआईटी खरगपुर, आईआईटी रुड़की,  आईआईटी बीएचयू,   एनआईटी जालंधर, रहे| 

 इसके अलावा उन्होंने भारत के अलावा अमेरिका, दुबई, सिंगापुर, मस्कट, अबू धाबी जैसी बेहतरीन जगह पर भी अपनी कविताओं का जलवा बिखेरा है और वहां के लोगों  मैं भी हिंदी कविताओं के लिए अच्छा खासा उत्साह देखते ही बनता है|

राजनीति में भी आजमाया अपना हाथ

जैसा कि हम सभी को पता है कि  श्री कुमार विश्वास का नाम बड़े ही गर्व के साथ लिया जाता है|  उन्हें भी हिंदी कविताओं से खासा प्रेम है लेकिन इसके अलावा भी उन्होंने राजनीति के क्षेत्र में अपना हाथ आजमाया है|  कुछ सालों तक वे आप पार्टी के नेता के रूप में भी जाने गए हैं जल्द ही वे   अपनी कविताओं के पास लौट आए क्योंकि उनके हिसाब से राजनीति से ज्यादा जरूरत उन्हें अपनी कविताओं की है|  और इस तरह से आज भी अपनी कविताओं के प्रति सजग  बने हुए हैं| अगस्त 2011 में ‘’जनलोकपाल आंदोलन’’ के लिए गठित अन्ना टीम के सक्रिय सदस्य के रूप में जाने जाते हैं। इसके अलावा 2012 में गठित होने वाली’’ आम आदमी पार्टी ‘’के कार्यकारिणी सदस्य के रूप में भी सक्रिय रहे।

कैसे शुरुआत हुई उनके वैवाहिक सफर की

Kumar Vishwas कॉलेज में पढ़ाते थे उसी कॉलेज में उनकी पत्नी श्रीमती मंजू शर्मा भी पढ़ाया करती थी|  कुमार विश्वास को वे बहुत पसंद थी और यही कारण माना जाता है कि उन्होंने श्रृंगार रस को ही कविता लिखने का माध्यम  चुना|  उनकी कविताओं की वजह से ही मंजू शर्मा  उन्हें पसंद करने लगी थी और दोनों को एक दूसरे से प्रेम हो गया था|  दोनों की जाति अलग थी और यही वजह थी कि उनके घर वाले इस विवाह के लिए तैयार नहीं  थे|  उनके विवाह में भी कई सारी अड़चनें आए लेकिन कुमार विश्वास और उनकी पत्नी ने हार नहीं मानी और दोनों हमेशा के लिए एक हो गए| 

क्या करती हैं कुमार विश्वास की पत्नी

Kumar Vishwas की पत्नी श्रीमती मंजू शर्मा राजनीति में सक्रिय हैं| जब  कुमार विश्वास जी ने राजनीति में प्रवेश लिया तो उनकी पत्नी के मन में भी राजनीति को लेकर दिलचस्पी होने लगी थी|  वह वर्तमान में राजस्थान की लोक सेवा आयोग की सदस्य हैं  और करोड़ों की मालकिन भी हैं| 

कुमार विश्वास की लोकप्रिय कविताएं

वैसे तो Kumar Vishwas ने कई सारी कविताओं का निर्माण किया है लेकिन इसके बावजूद भी उनकी कुछ कविताएं लोगों को बहुत पसंद आई है–

1]  कोई दीवाना कहता है

2]  तुम्हें मैं प्यार नहीं दे पाऊंगा

3]    कितने लोग कहां जाते हैं सुबह सुबह

4]    होठों पर गंगा है

5]    सफाई मत देना

 इसके अलावा उन्होंने एक बहुत ही उम्दा  कविता लिखी है, जो हम आपसे  शेयर करना चाहते हैं

 मैं अपने गीत गजलों से उसे पैगाम करता हूं

 उसी को दी हुई दौलत उसी के नाम करता हूं

 हवा  का काम चलना  दिए  का काम है जलना

 अपना काम करती है मैं अपना काम करता हूं

किसी के दिल की मायूसी जहां से होकर गुजरी है

 हमारी सारी चालाकी वहीं पर खोकर गुजरी है

 तुम्हारी और मेरी रात में बस फर्क इतना है

 तुम्हारी सो के गुजरी है हमारी रो के गुजरी है

 मोहब्बत  एक एहसासों की पावन की कहानी है

 अंधेरा किसको कहते हैं यह बस जुगनू समझता है

 हमें तो चांद तारों में ही तेरा रूप दिखता है

 मोहब्बत को नुमाइश की अदाएं तू समझता है

 मोहब्बत एक एहसासों की पावन सी कहानी है

 कभी कबीरा दीवाना था कभी मीरा दीवानी है

 यहां सब लोग कहते हैं मेरी आंखों में आंसू है

 जो तू समझे तो मोती है जो ना समझे तो पानी है

 जवानी में कई गजलें अधूरी  छूट जाती है

कई ख्वाहिशें तो दिल ही दिल में पूरी छूट जाती हैं

 जुदाई में तो मैं उस से बराबर बात करता हूं

 मुलाकातों में सब बातें अधूरी छूट जाती है

 जो मैं या तुम समझ  ले को इशारा कर लिया मैंने

 भरोसा बस तुम्हारा था तुम्हारा कर लिया मैंने

 लहर है हौसला है रब है हिम्मत है दुआएं हैं

 किनारा करने वालों से किनारा कर लिया मैंने

अपने शुरुआती सफर में किया बहुत संघर्ष

श्री Kumar Vishwas अपने शुरुआती सफर में  बहुत कठिन संघर्ष किया  है|  शुरू शुरू में जब वह किसी कवि सम्मेलन में जाया करते थे तो पैसे बचाने के लिए ट्रक या बस में लिफ्ट लिया करते थे|  वह वे पूरी कोशिश करते थे कि ज्यादा से ज्यादा पैसे बचाया जा सके  जिससे वह अपने  परिवार को किसी भी तरह की असुविधा में नहीं देखना चाहते थे|  इस तरह से संघर्ष करते हुए अपने जिंदगी में आगे बढ़ते हुए सफलता हासिल किए हैं|

कुमार विश्वास को मिलने वाले खास अवार्ड

कुमार विश्वास की कविताओं को लोगों का  भरपूर प्यार मिला है जिस से   उन्हें कई  प्रकार के खास अवार्ड भी दिए गए हैं

  1. वर्ष 1994 में Kumar Vishwas को काव्य कुमार कहा गया|
  2.  वर्ष 2004 में डॉ सुमन अलंकरण अवार्ड दिया गया|
  3.  वर्ष 2006 में  श्री साहित्य अवार्ड|
  4.   वर्ष 2010  में गीत श्री अवार्ड से सम्मानित किया गया|

कुमार विश्वास की लेखन शैली

Kumar Vishwas के गीतों की लेखन शैली बहुत ही उम्दा और सरल भाषा की होती  है जो  सीधे ही  लोगों के दिल में उतर जाती है|  उन्हें श्रृंगार रस की कविताएं लिखने में ज्यादा आनंद प्राप्त होता था इसके अलावा दूसरे रस पर भी अपने  भाग्य को आजमा चुके हैं| उनकी कविताओं को बात सही लोगों के द्वारा पसंद किया जाता है यहां तक कि बड़े-बड़े राजनेता, समाज कार्यकर्ता और फिल्मी हस्तियों को भी उनकी कविताएं  काफी पसंद है| 

अंतिम शब्द

इस प्रकार से हमने देखा कि Kumar Vishwas  बहुमुखी प्रतिभा के धनी हैं जिन्होंने हिंदी भाषा को लोगों के सामने बड़े स्तर पर लाने का फैसला किया और उस  कार्य में सफल भी रहे हैं|  उनकी यह सफलता उनके परिवार के बिना अधूरी है  साथ ही साथ उनके  चाहने वालों ने भी पूरा साथ दिया|  जीवन में कड़े संघर्ष होने के बावजूद उन्होंने खुद को साबित किया और देश की  भावी पीढ़ी के लिए   प्रेरणा के स्त्रोत  रहे|  उनके जीवन से प्रेरणा लेते हुए हम खुद भी आगे बढ़ सकते हैं और खुद को स्थापित कर सकते हैं|

Related posts

Krishna Sobti – कृष्णा सोबती का जीवन परिचय
Krishna Sobti हमारे देश भारत में कई प्रकार के अमूल्य लेखकों का जन्म हुआ जिन्होंने अपनी लेखनी से लोगों को जागरूक करने का काम किया ...
क्रिस्टियानो रोनाल्डो का जीवन परिचय | Cristiano Ronaldo Biography In Hindi
Cristiano Ronaldo Biography In Hindi हम अक्सर  भविष्य में अच्छा करने के लिए अपनी पढ़ाई पर जोर देते हैं लेकिन अगर गौर किया जाए तो ...
अर्शी खान का जीवन परिचय | Arshi khan biography in Hindi
 arshi khan  का संपूर्ण जीवन विवरण इस चकाचौंध भरी दुनिया में कई सारे ऐसे  रोजगार होते हैं, जहां पर लोग एक बेहतर भविष्य की कल्पना ...
रामधारी सिंह दिनकर | Ramdhari Singh Dinkar का जीवन परिचय
Ramdhari Singh Dinkar ( रामधारी सिंह दिनकर का जीवन परिचय  हमारे देश भारत में कई ऐसे कवियों ने जन्म लिया है, जिनकी कलम से ...
मान्यता दत्त का जीवन परिचय | Manyata Dutt Biography in hindi
manyata dutt की संपूर्ण जानकारी  बॉलीवुड के गलियारों में हमें कई सारी ऐसी हस्तियां दिख जाती हैं, जो आज के समय में खुद का एक ...

Leave a Comment

error: Content is protected !!