जामुन के फायदे और नुकसान | jamun in hindi

 जाने  जामुन ( jamun का महत्व,  संपूर्ण जानकारी

 फल  हमारे लिए बहुत ही जरूरी होते हैं, जो  हमें शारीरिक रूप से स्वस्थ रखने के साथ-साथ मानसिक रूप से भी तैयार करते हैं ताकि हम किसी भी चुनौती का आसानी से ही सामना कर सकें|  फलों में ऐसे कई प्रकार के  तत्व पाए जाते हैं जिनके माध्यम से आप खुद के शरीर को फिट कर सकते हैं और अगर आपको किसी प्रकार की शारीरिक समस्या हो, तो ऐसे में भी फलों के माध्यम से उन से आसानी से ही निपटा जा सकता है|  अगर आप  किसी भी डॉक्टर के पास जाते हैं, तो आपने गौर किया होगा कि वह आपको हमेशा ज्यादा से ज्यादा फलों का सेवन करने के लिए कहते हैं और आप इस माध्यम से खुद को बेहतर बना सकते हैं|  आज हम जिस फल के बारे में आपको बताने जा रहे हैं, वह है जामुन| ( jamun

jamun in hindi

कैसा होता है जामुन ( jamun

जामुन ( jamun के वृक्ष को सदाबहार वृक्ष के रूप में जाना जाता है जिसका फल बैगनी रंग का होता है और जिसे जामुनी ( jamuni रंग भी कहा जाता है|  और इस वजह से उसके फल  को जामुन ( jamun के नाम से पुकारा जाता है|  यह लगभग 1 से 2 सेंटीमीटर व्यास के होते हैं और ज्यादातर यह वृक्ष भारत एवं दक्षिण एशिया के कई सारे देशों में पाया जाता है और लोगों के द्वारा पसंद भी किया जाता है|   कई लोगों को जामुन ( jamun पसंद नहीं आता है, तो हम आपको बताना चाहेंगे कि जामुन ( jamun खाना आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभप्रद है और इससे आपके अंदर चल रही प्रतिरोधी क्षमता बेहतर होने  लगती  है|  ऐसा माना जाता है कि या अम्लीय प्रवृत्ति का होता है और इसका स्वाद थोड़ा  कसैला  होता है जिसे अगर आप नमक के साथ खाते हैं, तो स्वाद बढ़ भी जाता है| Also Read .

corn flour hindi
interior design kya hota hai
Hindi positive thought

जामुन ( jamun का वैज्ञानिक नाम 

जिस प्रकार हर प्रकार के पेड़, फल, फूल का वैज्ञानिक नाम होता है जिससे उसकी पहचान की जा सकती है उसी प्रकार से जामुन ( jamun का भी एक वैज्ञानिक नाम होता है|

 वैज्ञानिक  नाम — Syzygium cumini 

जामुन ( jamun के विभिन्न नाम 

जामुन ( jamun देश और विश्व के अलग-अलग भागों में पाए जाने की वजह से उसे अलग अलग नाम से जाना जाता है जहां पर उसकी पहचान बेहतरी के लिए की जाती है|  सामान्य तौर पर इसे जामुन ( jamun कहा जाता है और साथ ही साथ राज मन, काला जामुन,kala jamun जमाली, ब्लैकबेरी जैसे नामों से भी पुकारा जाता है| 

जामुन ( jamun में पाए जाने वाले विभिन्न तत्व

अगर आपको जामुन ( jamun खाना पसंद नहीं है, तो हम आपको  उसमें  पाए जाने वाले विभिन्न तत्वों के बारे में बताएंगे जिसके माध्यम से आप खुद को बिल्कुल फिट रख सकते हैं। ऐसे में आप भी जामुन ( jamun खाना शुरु कर दें ताकि आपको  यह सारे तत्व आसानी से ही मिल सके|

  1. ग्लूकोज
  2.  फ्रुक्टोज
  3.  कार्बोहाइड्रेट
  4.  प्रोटीन
  5.  कैल्शियम
  6.  आयरन
  7.  विटामिन बी
  8.  कैरोटीन
  9.  मैग्नीशियम
  10.  फाइबर

 जब आपको इतने सारे बेहतरीन  तत्व  मिलेंगे, तब आप भला इस फल को खाने से इंकार नहीं कर सकते हैं|

जामुन ( jamun के मुख्य फायदे

जामुन ( jamun एक ऐसा फल है जिसका उपचार कई सारी बीमारियों में किया जाता है और इसका सेवन करने से आप अपने शरीर की गर्मी को कुछ हद तक कम कर सकते हैं साथ ही साथ इसके माध्यम से कुछ बीमारियों से आप लड़ सकते हैं और आसानी से ही विजय प्राप्त  भी  कर सकते हैं| 

1] खून की कमी में काम आए– अगर आप हमेशा शरीर में खून की कमी से परेशान रहते हैं और कई प्रकार की दवाइयों का सेवन करने पर भी  किसी  प्रकार का असर नहीं हो रहा है| ऐसे में आपको निश्चित रूप से ही जामुन ( jamun का सेवन करना चाहिए क्योंकि  जामुन ( jamun  के अंदर भरपूर मात्रा में आयरन, कैल्शियम और पोटेशियम होते हैं जो कहीं ना कहीं आपके अंदर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हुए खून की कमी को पूरा करते हैं और जब आप ज्यादा से ज्यादा इसका उपयोग करते हैं, तो निश्चित रूप से आपके अंदर खून का  निर्माण ज्यादा से ज्यादा होता है और आप सही तरीके से अपने कार्य को अंजाम दे पाते हैं|

2] आपके लीवर के लिए बहुत फायदेमंद– लीवर की समस्या ऐसी समस्या होती है जिसके लिए  आप को काफी कष्टप्रद  तनाव को झेलना पड़ता है शुरू शुरू में तो आपको इससे संबंधित समस्याएं पता नहीं चलती लेकिन अगर आपको लीवर से संबंधित किसी भी प्रकार की समस्या का पता चल रहा हो, तो आप जल्द से जल्द जामुन ( jamun का सेवन करें जिससे आपको फायदा हो। अगर आप चाहें तो जामुन का जूस बनाकर पी सकते हैं जिससे आपको जल्द ही फायदा हो सकता है|

3] स्टोन के उपचार में है फायदेमंद— जैसा की आप सभी को पता है कि हमारे शरीर में कहीं, कभी किसी वजह से स्टोन बनने शुरू हो जाते हैं और बाद में एक विकराल रूप धारण हो जाता है। ऐसे में अगर आप जामुन के बीज का पाउडर बनाकर उसे दही के साथ अपने खाने में इस्तेमाल करें तो निश्चित रूप से ही पथरी  या स्टोन की समस्या आसानी से ही दूर हो जाएगी और आपको पता भी नहीं चलेगा|

4] त्वचा के लिए है फायदेमंद— आपने देखा होगा कि युवा वर्ग हमेशा अपनी त्वचा संबंधी समस्याओं से परेशान रहते हैं और किसी न किसी  प्रोडक्ट का इस्तेमाल करते हुए नजर आते हैं। ऐसे में अगर आप के चेहरे में भी किसी प्रकार के पिंपल या फिर दाग धब्बे हो, तो इसके लिए आपको जामुन के बीजों को पीसकर उसमें दूध मिलाकर पेस्ट बनाना  होगा और उसे सोने से पहले अपने पिंपल्स और चेहरे पर लगाएं। अगर आप इस प्रयोग को कई दिनों तक  करते हैं, तो निश्चित रूप से आपका चेहरा साफ और धब्बे  मुक्त हो जाएगा साथ ही साथ आपके चेहरे के पिंपल भी खत्म हो जाएंगे|

5] डायबिटीज के उपचार में फायदेमंद— इस दौड़ती भागती जिंदगी में देश की आधे से ज्यादा जनसंख्या डायबिटीज की समस्या से पीड़ित है और जब डायबिटीज बहुत ज्यादा  बढ़  जाती है, तो इससे कई प्रकार की नई दिक्कतें शुरू होने लगती हैं|  अगर आप जामुन  का सेवन करते हैं, इससे आप अपनी डायबिटीज को कंट्रोल में रख सकते हैं और अगर आप जामुन की गुठली को  सूखा  दें और उसका पाउडर बनाकर रोजाना पानी के साथ सेवन करें तो कुछ ही दिनों में आपकी डायबिटीज कम होती नजर आएगी जो आपके लिए अच्छा संकेत माना जाएगा|

6] पेट की समस्याओं से मिली निजात— हम सभी को कभी ना कभी  पेट की समस्या होने लगती है और जिस वजह से हम काफी हद तक परेशान हो जाते हैं। ऐसे में आप पेट की समस्या को दूर करना चाहते हैं तो जामुन की छाल का काढ़ा बनाकर पिए तो इससे आपकी पेट की समस्या दूर होगी साथ ही साथ होने वाली किसी भी प्रकार की  परेशानी  से भी मुक्ति मिल जाएगी|

7] पाचन क्रिया के लिए है महत्वपूर्ण— अगर आपको नित पाचन क्रिया संबंधित  दिक्कतें होती हैं और आपको इसका कोई निवारण समझ में नहीं आता तो ऐसे में आप जामुन का उपयोग करें जिससे आपके पाचन की समस्या दूर हो जाएगी। एक  बात  ध्यान रखें कि ऐसे समय में जामुन को हमेशा खाने के बाद उपयोग करें|

8] दस्त में मिले राहत— कई बार बाहर का खाना खा लेने से या किसी प्रकार की दिक्कत होने से दस्त होने लगती हैं, जो हमारे लिए बहुत ही कठिन होता है क्योंकि दस्त होने से शरीर में कमजोरी आ जाती है और किसी भी कार्य को कर पाने से हम सक्षम नहीं होते हैं। ऐसे में अगर आप जामुन को सेंधा नमक के साथ खाते हैं तो  आपको दस्त  में राहत मिलेगी और आप आसानी से ही अपने कार्य को कर पाएंगे|

9] मुंह के छालों के लिए है फायदेमंद—  जब शरीर के अंदर गर्मी बढ़ जाती है उस समय मुंह के छाले नजर आने लगते हैं फिर चाहे वह बच्चे हो या बड़े सभी  इस समस्या से परेशान रहते हैं। ऐसे में अगर आप जामुन की पत्तियों का इस्तेमाल करें तो निश्चित रूप से ही खाने से फायदा मिल सकता है। ऐसा माना जाता है कि जामुन की पत्तियों में  जीवाणु  रोधी अवयव पाए जाते हैं, जो निश्चित रूप से ही छालों को ठीक करने में मददगार होते हैं|

10] बुखार ठीक करने में– अगर आपको तेज बुखार है और  आपका बुखार  नीचे नहीं जा रहा हो,  तो ऐसे में  जामुन की पत्तियों का इस्तेमाल किया जा सकता है और जल्द से जल्द अपने बुखार को  ठीक किया जा सकता है|

जामुन ( jamun के नुकसान

jamun in hindi

ज्यादातर हम जानकारी के अभाव में ज्यादा से ज्यादा जामुन का उपयोग करने लगते हैं और ऐसा हमें लगता है कि ज्यादा उपयोग करने से हमारे शरीर को ज्यादा फायदा होने वाला है हालांकि यह एक गलतफहमी है|  जामुन का इस्तेमाल हमेशा नियंत्रण में रहकर करना चाहिए। अगर आप  बहुत ज्यादा जामुन का इस्तेमाल करते हैं तो इससे आपको काफी हद तक नुकसान हो सकता है|

 आज हम आपको जामुन से होने वाले नुकसान के बारे में बताएंगे ताकि आप भी सचेत हो सके और किसी भी प्रकार की लापरवाही ना दिखाएं|

1] उल्टी की हो सकती है समस्या– कई लोगों को जामुन सूट नहीं करता है। ऐसे में अगर   आप  ज्यादा से ज्यादा जामुन का उपयोग कर रहे हैं, तो सावधान होने की आवश्यकता है क्योंकि इससे आपको उल्टी भी हो सकती हैं|

2] कब्ज की समस्या— कई बार हम जामुन के महत्व को जानते हुए उसका अधिक उपयोग करते हैं और ऐसे समय उपयोग कर लेते हैं जब उपयोग करना सही नहीं माना जाता है अगर आप बिना किसी समय के जामुन का उपयोग करते हैं, तो आपको कब्ज की समस्या हो सकती है। ऐसे में हम आपको बताना चाहेंगे कि आप जामुन का इस्तेमाल दोपहर के समय करें तो ज्यादा बेहतर होगा उससे फिर आप की कब्ज की समस्या नहीं हो पाएगी|

3] ब्लड शुगर की समस्या— कुछ लोगों को हाई ब्लड प्रेशर की समस्या होती है और ऐसा कहा जाता है कि जामुन का उपयोग कर लेने से ब्लड  प्रेशर की समस्या ठीक हो सकती है लेकिन  ठीक होने के चक्कर में लोग इसका ज्यादा इस्तेमाल कर बैठते हैं और बहुत ज्यादा इस्तेमाल करने से ब्लड शुगर की समस्या ठीक नहीं होती बल्कि वह और भी बढ़ने लग जाती है इसलिए अगर आप जामुन का इस्तेमाल  नियमित रूप से करें तो ज्यादा फायदेमंद होगा ना कि बहुत ज्यादा उपयोग करें|

4] दूध पिलाने वाली महिलाएं ना करे  सेवन– ऐसी महिलाएं जो अपने बच्चों को दूध पिलाने का काम करती हैं उन्हें ज्यादा जामुन का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि नवजात को दूध पिलाते समय खुद के साथ-साथ जामुन की वजह से छोटे बच्चे को भी नुकसान हो सकता है|

5] खांसी की समस्या — हमें जामुन खाना पसंद है,यह सोचकर हम ज्यादा  जामुन  खाने लग जाते हैं। कई बार बहुत ज्यादा जामुन खा लेने से खांसी की समस्या हो सकती है और आप परेशान भी रह सकते हैं|

कुछ खास मौके जब ना करें जामुन ( jamun का सेवन

जामुन खाना तो हम सभी को बहुत पसंद आता है लेकिन आज हम कुछ खास मौके बता रहे हैं, जब आपको जामुन का सेवन नहीं करना चाहिए नहीं तो आपको भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है|

  1. ऐसा माना जाता है कि कभी गर्भावस्था के समय जामुन का सेवन नहीं करना चाहिए|
  2. ऐसा माना जाता है कि किसी भी प्रकार के ऑपरेशन के ठीक पहले और बाद में जामुन का सेवन नहीं करना चाहिए|
  3.  कभी भी कच्चे जामुन ना खाएं क्योंकि कच्चे जामुन खाना आपके पाचन तंत्र को बिगाड़ सकता है|
  4.   हमेशा  जामुन  खाने के 2 घंटे बाद और 2 घंटा पहले दूध नहीं पीना चाहिए, नहीं तो आपको अपच की समस्या हो सकती है|
  5.  अगर आपको ज्यादा जी घबराने, उल्टी आने की समस्या है, तो जामुन से दूर रहना ही बेहतर होगा|

जामुन ( jamun से किया जा सकता है इन रोगों में उपचार

जामुन के माध्यम से आप कई प्रकार के रोगों से छुटकारा पा सकते हैं और यह आपके लिए बहुत हद तक आसान हो सकता है|  अगर आपको मधुमेह,  पाचन तंत्र में समस्या, बिस्तर में पेशाब करने की समस्या, दांतों की समस्या,  दमा,  गले में दर्द या आवाज बैठना, एवं बवासीर जैसी समस्या हो तो आप जामुन का उपयोग करके अपने  रोगो को कुछ हद तक कम कर सकते हैं|

अंतिम शब्द–

इस प्रकार से हमने जाना कि जामुन खाना हमें पसंद आता है लेकिन अगर हम उसके फायदे और नुकसान के बारे में जान जाते हैं, तो आसानी से ही अपना काम कर सकते हैं और बिना किसी नुकसान के जामुन का सेवन भी किया जा सकता है|  आज हमने आपको जामुन के फायदे और नुकसान के बारे में पूरी जानकारी दी है जिससे आप अपने स्वास्थ्य के प्रति सजग रह सके और किसी भी प्रकार की दिक्कत से बच सकें|

 उम्मीद करते हैं आपको हमारा ये लेख पसंद आएगा इसे अंत तक पढ़ने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद| 

Related posts

Lala Lajpat Rai | पंजाब केसरी लाला लाजपत राय
Lala Lajpat Rai का जीवन परिचय हमारा देश लगभग 200 साल तक अंग्रेजों का गुलाम रहा। देश को गुलामी की जंजीरों से बाहर निकालने के ...
Hindi Diwas: हिंदी दिवस कब मनाया जाता है और क्यों
hindi diwas का मुख्य विवरण विश्व में प्रत्येक देश की एक मुख्य भाषा होती है जिससे वहां के लोगों के द्वारा बोला और समझा जाता ...
Kalidas – कालिदास का जीवन परिचय
कालिदास का जीवन परिचय भारत के इतिहास में कई सारे कवियों में अपनी जगह बनाई  इनमें से अपनी कलाकृतियों के माध्यम से खुद के अंदर ...
Swami Vivekananda – स्वामी विवेकानंद जी का जीवन परिचय
Swami Vivekananda जी का जीवन परिचय भारत के इतिहास में अब तक ऐसे कई आध्यात्मिक गुरुओं  ने जन्म लिया है,  जिनके माध्यम से हमें अपने ...
राजा विक्रमादित्य का इतिहास | vikramaditya in hindi
Raja vikramaditya  हमारा भारत देश ऐसा देश है जहां पर हमेशा से ही  हमारे संस्कार, संस्कृति और मान्यताओं को महत्व दिया गयाा है। प्राचीन काल ...

Leave a Comment

error: Content is protected !!