गाँधी जयंती पर कविता | 11+ Amazing Gandhi Jayanti Poem in Hindi

गाँधी जयंती पर कविता | 11+ Amazing Gandhi Jayanti Poem in Hindi (Class 1, 2, 3, 4, 5):- महात्मा गाँधी एक ऐसा चरित्र, जिनका योगदान भारत देश कभी नहीं भूल सकता है। सम्पूर्ण विश्व उनके द्वारा देश हित के लिए किये गए कार्यों की सराहना करता है। अंग्रेजों से भारत को आजाद करवाने में महात्मा गाँधी ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

देश के लिए उनके अतुल्य योगदान के कारण ही उन्हें ‘राष्ट्रपिता’ की उपाधि प्राप्त है। महात्मा गाँधी का पूरा नाम ‘मोहनदास करमचंद गाँधी’ है। प्यार से उन्हें हम सब ‘बापू’ भी कहते है। प्रत्येक वर्ष उनका जन्मदिन 2 अक्टूबर को बड़े हर्षोल्लास के साथ पूरे भारत देश में मनाया जाता है।

इस दिन राष्ट्रीय अवकाश किया जाता है। पूरा देश उनके जन्मदिन के अवसर पर उन्हें पुष्पों की श्रद्धांजलि अर्पित करता है। इस दिन उनके द्वारा किये गए कार्यों को याद करके सराहा जाता है।

महात्मा गाँधी जयंती पर कविता (Gandhi Jayanti Poem in Hindi)

आज इस लेख में हम आपके लिए “महात्मा गाँधी जयंती पर कविता” (Gandhi Jayanti Poem) का संग्रह लाये है। महात्मा गाँधी की इन कविताओं के द्वारा आप उन्हें याद करके श्रद्धांजलि अर्पित कर सकते है। महात्मा गाँधी साधारण चरित्र और उच्च विचारों वाले इंसान थे। उनका जीवन हम सभी के लिए प्रेरणा का स्रोत है। गाँधीजी सदैव सत्य वचन और अहिंसा के अनुयायी थे।

उन्होंने सत्य और अहिंसा के मार्ग पर चलते हुए भारत देश को आजाद करवाने में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका अदा की थी। उनके जन्मदिन के दिन सम्पूर्ण विश्व में “विश्व अहिंसा दिवस” मनाया जाता है। पूरे देश में इस दिन को राष्ट्रीय अवकाश होता है। इस दिन सभी सरकारी कार्यालय, विद्यालय, कॉलेज, बैंक, डाकघर इत्यादि बंद रहते है।

महात्मा गाँधी जयंती उत्साह और हर्षोल्लास के साथ मनाई जाती है। गाँधी जयंती के इस पावन अवसर पर सभी लोग उनके चित्रों और मूर्तियों पर पुष्प अर्पित करते हैं। इस दिन सभी लोग उनकी याद में गीत गाते है, प्रार्थना करते है और मोमबत्तियां जलाते हैं।

नीचे महात्मा गाँधी जयंती पर कविताओं (Gandhi Jayanti Poem in Hindi) का संग्रह उपस्थित है। आप उन सभी कविताओं को पढ़ सकते है और महात्मा गाँधी को श्रद्धांजलि अर्पित कर सकते है।

गाँधी जयंती पर कविता – Poem on Gandhi Jayanti in Hindi

2 अक्टूबर गाँधी जयंती पर कविता (Gandhi Jayanti Poem in Hindi)

पोरबंदर में लिया जन्म
और किया साबरमती में विश्राम
नहीं बैठे कभी सुस्त
और किया अंत तक काम
गाँधी है उनका नाम
वक्त वक्त का मोल बताया
और बताया रोम रोम का हिसाब
समझाया सच्चाई का मतलब
और क्या होता है अच्छा, बुरा और ख़राब
करते रहेंगे हम काम
लेते ही उनका नाम
गाँधी है उनका नाम
गाँधी है उनका नाम

Gandhi Jayanti Poem in Hindi

बापू महान, बापू महान!
हे परम तपस्वी परम वीर
हे सुकृति शिरोमणि, हे सुधीर
कुर्बान हुए तुम, सुलभ हुआ
सारी दुनिया को ज्ञान
बापू महान, बापू महान!!

बापू महान, बापू महान
हे सत्य-अहिंसा के प्रतीक
हे प्रश्नों के उत्तर सटीक
हे युगनिर्माता, युगाधार
आतंकित तुमसे पाप-पुंज
आलोकित तुमसे जग जहान!
बापू महान, बापू महान!!

Poem on Gandhi Jayanti in Hindi

जिस बापू ने सारे जग में
हिन्दुस्तान का नाम किया
उस पर ही इक घात लगाकर
अनहोनी ने काम किया

बापू ने बस राम कहा और
चिर निद्र में विश्राम किया
यह संसार नमन करता है
आजादी की शान को
हम श्रद्धा से याद करेगें
गाँधी के बलिदान को!!

Short Poem on Gandhi Jayanti in Hindi

ली सच की लाठी उसने
तन पर भक्ति का चोला
सबक अहि़सा का सिखलाया
वाणी में अमृत उसने घोला
बापू के इस रंग में रंग कर
देश का बच्चा- बच्चा बोला
कर देगें भारत माँ पर अर्पण
हम अपनी जान को
हम श्रद्घा से याद करेगें
गाँधी के बलिदान को
चरखे के ताने बाने से उसने
भारत का इतिहास रचा
हिन्दू,मुस्लिम,सिख,ईसाई
सबमें इक विश्वास रचा
सहम गया विदेशी फिरंगी
लड़ने का अभ्यास रचा
मान गया अंग्रेजी शासक
बापू की पहचान को
हम श्रद्धा से याद करेगें
गाँधी के बलिदान को!!

Poem on Mahatma Gandhi Jayanti in Hindi

धोती वाले बाबा की
यह ऐसी एक लडा़ई थी
न गोले बरसाये उसने
न बन्दूक चलायी थी

सत्य अहिंसा के बल पर ही
दुश्मन को धूल चटाई थी
मन की ताकत से ही उसने
रोका हर तूफान को
हम श्रद्धा से याद करेगें
गाँधी के बलिदान को!!

Mahatma Gandhi Jayanti Poem in Hindi

एक थे लाल और एक थे बापू
कहाँ हैं अब ऐसे लाल और बापू
दोनों ने जीवन सर्वस्व किया नौछावर
अपनी इस जननी की खातिर
आओ मिलकर दिया जलाएं
जन्मदिन उनका मनाएँ
सुख, समृधि का जो देखा उन्होंने सपना
उसको पूरा करने का क्योँ न ले प्रण अपना
प्यारे बापू प्यारे शास्त्री जी
धन्य भाग हमारे
जो हम इस धरती पर आए
जहां ऐसे कर्णधार हमने हैं पाये
अपने कर्मठ अमर सपूतों को
उनके पसीने की एक एक बूंदों को
क्योँ न याद करे हम दोनों को
भावबिह्वलहोकर दोनों को
इस धरा के अमर सपूतों को
एक ने बोला जय जवान – जय किसान
दूसरे बोले रघुपति राघव राजा राम
दोनों की थी एक ही बोली
देश हमारा खेले होली (रंगों की)
क्योँ न बोलें हम ये आज
भारत बन जाए हम सबकी शान!!

गाँधी जयंती के लिए कविता (Gandhi Jayanti Ke Liye Poem)

आजादी के आप पुरोधा भारत की पहचान हो बापू
नाम तुम्हारा सदा अमर है सूरज की संतान हो बापू
सदा सत्य के रहे पुजारी करुणा की जलधार हो बापू
दिनों के तो सेवक हो और दुखियों के भरतार हो बापू

जन्म दिवस पर कोटि नमन हर साँस तुम्हें अर्पण हो बापू
सदा तुम्हारी कीर्ति शेष है हर युग का दर्पण हो बापू
आजादी के आप पुरोधा भारत की पहचान हो बापू
नाम तुम्हारा सदा अमर है सूरज की सन्तान हो बापू!!

महात्मा गाँधी जयंती पर कविता (Mahatma Gandhi Jayanti Poem in Hindi)

अन्य लेख, इन्हें भी पढ़े:-

23+ Amazing Slogans in Hindi (हिंदी नारें)

3501+ स्वप्न फल (Swapna Phal) और स्वप्न विचार (Swapna Vichaar) का अर्थ व् पूरा मतलब जानें

कोरोना वायरस क्या है? वायरस के कारण, लक्षण और इलाज क्या है?

विश्व धर्म सम्मेलन, शिकागो में स्वामी विवेकानंद का भाषण

विज्ञान के चमत्कार पर निबंध

अंतिम शब्द (Conclusion)

अंत में आप सभी से सिर्फ इतना कहना चाहता हूँ कि अगर आपको हमारा यह गाँधी जयंती के लिए कविता (Gandhi Jayanti Poem in Hindi) लेख पसंद आया है तो इसको अपने मित्रों के साथ फेसबुक, व्हाट्सएप्प, इंस्टाग्राम पर जरूर साझा करें। इससे वे सभी भी इस महत्वपूर्ण जानकारी का लाभ प्राप्त कर पाएंगे।

इस गाँधी जयंती के लिए कविता (Poem on Gandhi Jayanti in Hindi) लेख को पूरा पढ़ने के पश्चात अगर आपके आपके मन में किसी भी प्रकार का प्रश्न उठ रहा है, तो आप हमें कमेंट के माध्यम से पूछ सकते है।

हम आपके प्रत्येक प्रश्न का उत्तर जल्द से जल्द देंगे। अगर आपको आगे भी ऐसी ही महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करनी है, तो आप हमारें इस ब्लॉग को follow कर सकते है। हम रोज़ाना नई-नई महत्वपूर्ण व रोचक जानकारियां आपके लिए लेकर आते रहते है।

धन्यवाद।

Leave a Comment