DATABASE Kya hai – इसकी जानकारी हिंदी में

DATABASE क्या है, जाने पूरी जानकारी

 आज के दौर में कंप्यूटर की अहमियत को नकारा नहीं जा सकता| आप कहीं भी जाते हैं,तो आपको कंप्यूटर के बिना कार्य कर पाने में दिक्कत का सामना करना पड़ता है| बच्चे हों या बड़े सभी को  कंप्यूटर की आवश्यकता होती है और एक हद तक यह जरूरी  है| कंप्यूटर में कई सारे डेटा  का संग्रह होता है, जो किसी भी टेक्स्ट, डॉक्युमेंट या पिक्चर को हमेशा के लिए  सुरक्षित किया जा सकता है और उसे बार-बार उपयोग में लाया जा सकता है| अगर इसी कड़ी को आगे बढ़ाया जाए तो  यह एक डेटाबेस  के रूप में दिखाई देगा| डेटाबेस हमारे लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण है।

 आज हम आपको DATABASE के बारे में संपूर्ण जानकारी बताने जा रहे हैं जिससे आपकी  समस्या दूर हो सकेगी और किसी भी समस्या का सामना आसानी से हो जाएगा|

DATABASE क्या हैै

DATABASE Kya hai

DATABASE एक प्रकार का व्यवस्थित फाइल्स  का संग्रह है, जिसमें आप अपने कई सारे डेटा को एक साथ टेबल और  रो के माध्यम से सुरक्षित रख सकते हैं। ऐसा करने से आपका काम पहले से कहीं अधिक आसान और सुविधाजनक हो जाता है और आपको दिक्कत नहीं होती है। आपने गौर किया होगा कि जब भी किसी ऑफिस, स्कूल या कॉलेज में कोई जानकारी लेनी होती है वह बड़ी ही आसानी से मिल जाती है जिसमें किसी भी प्रकार की तकलीफ किसी को नहीं होती है दरअसल यह सब  Database  के माध्यम से हो पाता है जिसे DBMS  भी कहा जाता है|

क्या है DBMS का फुल फॉर्म

DBMS DATABASE के रूप में देखा जाता है, जो बड़ी ही आसानी से अपने कार्य को संचालित कर पाने में सक्षम होता है। DBMS  का फुल फॉर्म Database management system  है|  यह एक सॉफ्टवेयर के रूप में कार्य करता है, जो डाटाबेस को हमेशा सही तरीके से मैनेज करता है|

DATABASE मुख्य उदाहरण

  1. Foxpro– आप में से कई लोगों ने इसका इस्तेमाल पहले भी किया होगा। इसका इस्तेमाल एक Text based procedurally oriented programming language  है, जो हमें डेटाबेस को सही तरीके से   मैनेज कर के काम को सही करते हैं। आज के समय में  इसे virtual foxpro  के नाम से जाना जाता है, जो एमएस डॉस विंडो में विकसित किया गया है|
  2. DB2 — यह मुख्य रूप से डाटाबेस में  मुख्य प्रोडक्ट के रूप में काम आता है। इसका मुख्य कार्य डाटा को डेटाबेस में स्टोर करके Analyse  करना हो। यह हमेशा से ही ऐसे कांसेप्ट को फॉलो करने की कोशिश करता है, जो हमेशा एक बेहतर रिजल्ट देने की कोशिश में  हो| ऐसे Retional database management system  भी कहा जा सकता है, जो आप के काम आता है|
  3. Dbase– आज तक जितने भी DATABASE उपलब्ध हैं उनमें से Dbase  को ही सबसे पहले बनाया गया था। इनमें उन सारे एलिमेंट को डालने की कोशिश की गई, जो किसी भी डेटाबेस को पहले से बेहतर बना सकें ।कई सालों तक  इस के माध्यम से अच्छा रिजल्ट प्राप्त हुआ है लेकिन बाद में धीरे-धीरे इसके अंदर भी कुछ परिवर्तन कर दिए गए और फिर इनका इस्तेमाल किया गया|
  4. Oracle– इसे मुख्य रूप से Object relational database management system  के रूप में जाना जाता है इसका सबसे ज्यादा आज के समय में उपयोग किया जा रहा है। यह एक सॉफ्टवेयर कंपनी है, जो डाटाबेस को नए सिरे से उपयोग में लाने के लिए नए तरीके  आजमाती है|
  5. Mysgl– ऐसा माना गया कि इस सिस्टम का नाम को फाउंडर की बेटी के नाम पर रखा गया| यह एक सॉफ्टवेयर कंपनी है जिसे 1995 में बनाया गया लेकिन अब इसके मालिक Oracle corporation  है|  इसे डेटाबेस के उपयुक्त उदाहरण के रूप में देखा जाता है| 

DATABASE MODEL के प्रकार

जब भी आप किसी जानकारी को डेटाबेस रूप में व्यवस्थित करना चाहते हैं, तो इससे आपकी मदद डाटाबेस मॉडल कर सकता है और आपके काम को आसान बना सकता है। डाटाबेस मॉडल हमेशा इन तरीकों से ही आपको सटीक और सही जानकारी देता है।

  1. Hierarchical model– आपने स्कूल, कॉलेजों में बच्चों को हमेशा फैमिली ट्री बनाते देखा होगा जिसमें वह एक  पेड़ के माध्यम से अपने परिवार के लोगों का  आकलन करके बताते हैं।  उसी प्रकार से इस मॉडल के माध्यम से भी एक फैमिली ट्री बनाया जा सकता है और संपूर्ण जानकारी प्राप्त की जा सकती हैं। डेटाबेस के बारे में Database ही Logical structure  रिप्रेजेंट करता  है और सही तरीके से  डेटाबेस की जानकारी का मॉडल होता है|
  2. Relational model–डेटाबेस का यह मॉडल अधिकतर रूप से उपयोग किया जाता है। इसे बहुत पावरफुल लेकिन बहुत ही साधारण रूप से तैयार किया हुआ मॉडल माना जाता है। इसे आप  टेबल फॉर्म में देख सकते हैं और इनमें कई प्रकार की रिकॉर्ड को भी  सुरक्षित करके रखा जा सकता है, जो आपके भविष्य में काम आ  सके|
  3. Network model– इस मॉडल को थोड़ा मुश्किल माना जाता है। जिसमें कई सारे टेबल एक-दूसरे से जुड़ी रहती हैं और इसे एक  ग्राफ के रूप में भी बनाया जा सकता है। इसके माध्यम से काम को आसान भी बनाया जा सकता है।

OPERATION OF DATABASE

जब भी आप डाटाबेस का उपयोग करते हैं, तो आपको उस से जुड़े कई सारे ऐसे चरणों को जोड़कर आगे बढ़ना पड़ता है जिससे कि एक सही तरीका सामने आए और किसी प्रकार की गड़बड़ ना हो। इसके अंतर्गत हम आपको सही जानकारी   देंगे|,

  • Insert — डेटाबेस में  डाटा को स्टोर किया जाता है और यह काम Insert  के माध्यम से आसानी से किया जा सकता है।
  • Delete– अगर डेटाबेस में इसी प्रकार की गड़बड़  हो जाए, तो Delete  का इस्तेमाल किया जाता है जिसमें  प्रोग्रामिंग लैंग्वेज इस्तेमाल होती है और आसानी से हो जाने वाली  यह लैंग्वेज को आप बिना किसी झंझट के उपयोग कर सकते हैं|
  • Update– इसके माध्यम से डाटाबेस के पहले के इंफॉर्मेशन को अपडेट किया जाता है। अगर ऐसा लगता है कि कोई नया तरीका आ चुका है, तब अपडेट का ऑप्शन लाया जाता है|
  • Search access– किसी भी इंफॉर्मेशन को ढूंढने में हमेशा Search  का उपयोग किया जाता है| इसके माध्यम से रिजल्ट बैलेंस इंक्वायरी में उपयोग किया जाता है। कई बार ऐसा होता है कि बाहर ट्रेन या प्लेन से जाते हैं, उस समय भी Search access का इस्तेमाल किया जाता है|

क्या होते हैं DATABASE MANAGEMENT के मुख्य कार्य

डाटाबेस मैनेजमेंट हमेशा से ही डेटाबेस के लिए महत्वपूर्ण रहा है ऐसा इसलिए कहा जा सकता है क्योंकि डाटाबेस मैनेजमेंट  डाटा को सही दिशा में आगे बढ़ने में मदद करता है अपने मुख्य कार्यों की वजह से ही कार्य को आसान कर देता है| 

  1. इसका सबसे मुख्य कार्य अपने डेटा की सुरक्षा करना होता है जिससे कोई भी बाहरी तत्व आकर  किसी भी प्रकार के डाटा से छेड़खानी ना कर सके|
  2.  डाटाबेस को समय-समय पर अपडेट करते रहना भी एक बड़ी जिम्मेदारी है और एक मुख्य कार्य के रूप में जानी जाती है|
  3.  हमेशा डेटाबेस को मैनेज करना जिसमें ऐसे मैनेजर अपडेट किया जा सके महत्वपूर्ण होता है और एक कार्य के रूप में ही देखा जाता है|
  4.  इसके माध्यम से किसी भी डाटा को मैनिपुलेट करने का काम किया जा सकता है|
  5. इसके माध्यम से डेटाबेस को एक साथ  संचालित किया जा सकता  है|

डेटाबेस की आवश्यकता

हम में से कई लोगों को डेटाबेस के बारे में सही जानकारी प्राप्त नहीं होती है लेकिन अगर डेटाबेस का सही रूप से इस्तेमाल किया जाए तो इससे हम अपने डाटा को आसानी से ही सुरक्षित रख सकते हैं और इससे कई  तरीकों से मदद भी दिलाई जा सकती है।  अगर आप इंटरनेट का ज्यादा से ज्यादा उपयोग करते हैं, तो आप डेटाबेस को आसानी से समझ सकते हैं और इसकी आवश्यकता भी आप महसूस कर सकते हैं|

डेटाबेस के मुख्य फायदे

हमारे कई दोस्तों को डेटाबेस के बारे में सही जानकारी नहीं होती और वे इसका इस्तेमाल भी सही ढंग से नहीं कर पाते हैं। ऐसे में हम आपकी पूरी मदद करेंगे जिससे आप इसके फायदे के बारे में जान सके।

  1. डेटाबेस के माध्यम से आप एक नए डाटा को बना सकते हैं  और पुराने डाटा को हटा भी सकते हैं|
  2.  आप चाहें तो अपनी सुविधा के अनुसार डेटाबेस को अलग-अलग भागों में बांट कर उसे अपने तरीके से   सुरक्षित कर सकते हैं|
  3.  आप एक ही डेटाबेस में कई सारे एप्लीकेशन को जोड़ सकते हैं और इन के माध्यम से यूज़र इंटरफ़ेस का उपयोग भी कर सकते हैं|
  4.  डेटाबेस के माध्यम से ऐसे जानकारियों को सुरक्षित रखा जा सकता है जिन्हें आप किसी दूसरे को नहीं बताना चाहते|
  5.  डेटाबेस आपको एक ऐसा माध्यम देता है, जिसके माध्यम से आप कम जगह में भी अधिक से अधिक जानकारियों को सुरक्षित रख सकते हैं|
  6.  कई बार ऐसा होता है कि प्रोग्राम और डाटा एक साथ हो जाते हैं ऐसे में डेटाबेस की मदद से आप  प्रोग्राम और डाटा को एक साथ रख सकते हैं|
  7.  डेटाबेस  के माध्यम से अपने  डाटा का बैकअप भी तैयार कर सकते हैं और उस पर काम कर सकते हैं|

अंतिम शब्द

इस प्रकार से हमने जाना कि डेटाबेस हमारे लिए बहुत ही महत्वपूर्ण एप्लीकेशन है, जो समय रहते हमारे काम आते हैं| कई बार जब हम अपने काम में व्यस्त होते हैं उस समय डेटाबेस हमारी चीजों को सुरक्षित रखने में हमारी महत्वपूर्ण मदद करते हैं| जैसे जैसे हम आगे की ओर बढ़ रहे हैं, वैसे वैसे हमारे जीवन में डेटाबेस का महत्व बढ़ता जा रहा है क्योंकि हम ज्यादातर कंप्यूटर पर कार्य करते हैं और कंप्यूटर डेटाबेस की भाषा  भली-भांति समझता है|  ऐसे में अगर आपको डेटाबेस की जानकारी नहीं है, तो आप निश्चित रूप से ही इसकी पूर्ण जानकारी प्राप्त कर सकते हैं|

हमारा लेख पढ़ने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद 

Leave a Comment

error: Content is protected !!