कॉर्नफ्लोर के बारे में जानिए उचित जानकारी | corn flour hindi

 corn flour kya hota hai

भारतीय संस्कृति में पकवानों का खास महत्व रखा गया है, जहां पर घरों में कई प्रकार के पकवान बनाए जाते हैं और उनका  सेवन किया जाता है|  जब भी हम पकवान बनाते हैं, तो उसमें कई प्रकार के मसाले और सामग्रियों का इस्तेमाल करते हैं जिसके माध्यम से हम अपने खाने को बहुत बढ़िया और स्वादिष्ट बना सकते हैं|  ऐसे में हमारे पास कई सारे ऐसे सामग्रियों का जमावड़ा होता है जिसके बारे में हम कई बार खुद ही पूरी जानकारी नहीं रखते और हमसे कोई ना कोई गड़बड़ होती रहती है|  आज हम आपको एक ऐसी   महत्वपूर्ण सामग्री बारे में बताएंगे,  जिसका उपयोग हम आटे के रूप में करते हैं और जिसे कॉर्नफ्लोर ( corn flour कहा जाता है| 

corn flour hindi

 आज हम आपको कॉर्नफ्लोर { corn flour से  संबंधित सारी जानकारी देंगे,  जिससे आपको भी इसके बारे में कोई गलतफहमी ना रह जाए|

कॉर्न फ्लोर का हिंदी में मतलब | corn flour meaning in hindi

वैसे तो कॉर्न फ्लोर ( corn flour को हिंदी में मक्के के आटे के रूप में देखा जाता है लेकिन यह कुछ अलग प्रकार से बनाया जाता है और इस वजह से इसे मक्के के आटे से अलग रूप में भी देखा जा सकता है|  हम  इसका उपयोग सामान्य रूप से अपने भोजन को स्वादिष्ट बनाने के लिए करते हैं और कई बार इसके उपयोग से भोजन कुरकुरा भी बनता है|

kabir ke dohe in hindi
ओके का मतलब क्या होता है
सच्चे प्यार की निशानी

कब किया जाता है कॉर्नफ्लोर | corn flour  का उपयोग

कॉर्न फ्लोर ( corn flour का उपयोग हमेशा सोच समझ कर करना चाहिए इसका उपयोग हर पकवान बनाने में नहीं किया जाता बल्कि ऐसे समय किया जाता है जब इसकी ज्यादा जरूरत महसूस हो|  सामान्य रूप से इसका उपयोग क्रिस्पी रेसिपी  बनाने में किया जाता है साथ ही साथ इसका उपयोग तब करते हैं, जब हमें अपनी  पतली  ग्रेवी को गाढ़ा करना हो| जब भी हम कभी चाइनीस   डिश बनाते हैं, तो उस समय कॉर्न फ्लोर ( corn flour का उपयोग सबसे ज्यादा जरूरी माना गया है जैसे कि मंचूरियन,  पनीर  चिल्ली,  सोया चिल्ली, नूडल   बनाने में भी उपयोग किया जाता है|  इसके अगर आप  चाहे  तो  इसका  उपयोग   गुलाब जामुन,  रसगुल्ला  बनाने में भी किया जा सकता है| 

इसके अलावा जब भी आप किसी प्रकार का  सुप बनाते हैं, तो इसके लिए भी कॉर्नफ्लोर ( corn flour बहुत ही जरूरी माना गया है और अगर आप दूध को भी  ज्यादा गाड़ा  करना चाहे तो  कॉर्न फ्लोर ( corn flour उपयोगी है|

कॉर्नफ्लोर घर में बनाने का तरीका

अगर आप कॉर्नफ्लोर ( corn flour को घर में ही बनाना चाहते हैं, तो हम इसमें आपकी मदद करेंगे क्योंकि इसे घर में बनाने मैं कुछ समय लगता है लेकिन आसान भी है|  इसके लिए सबसे पहले आपको  मक्के को पानी में दो से तीन बार धो लेना होगा|  जब आप मक्के को अच्छे से धो लेंगे तो फिर उसे किसी बर्तन में रखकर बर्तन में पूरे पानी भर देंगे और उसे  मक्के के साथ  रात भर ऐसे ही पानी में डूबा रहने देंगे| दूसरे दिन मक्के से पानी को छानकर अलग कर देंगे और मिक्सी के जार में मक्के में थोड़ा पानी डालकर  बारीक पीस लेंगे| 

 इसके बाद किसी दूसरे बर्तन में  पतला कपड़ा रखेंगे और जो  मिश्रण हमने मिक्सी में  पीसा  था उसे उस कपड़े में   छान लेंगे|  अब इस मिश्रण को आपने  छान लिया हो उसे कहीं दूर रखेंगे और  जरा भी  मिलने नहीं देंगे|  जब कुछ घंटों के बाद  पेस्ट  ज्यादा  हो जाएगा और उसका पानी ऊपर की ओर आ जाएगा उस समय पानी को सावधानीपूर्वक अलग कर देंगे|  अब उस  मिश्रण को  धूप में सुखा देंगे|  जब मिश्रण बहुत अच्छे से सूख जाएगा तब मिक्सर में डालकर बारीक पाउडर बना लेंगे और उस पाउडर को छलनी के माध्यम   के डब्बे में रख देंगे| इस तरह से आपका कॉर्नफ्लोर तैयार हो जाएगा जिसका आप अपनी इच्छा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते हैं और विभिन्न पकवानों का जायजा ले सकते हैं|

कॉर्नफ्लोर ( corn flour के लिए विशेष सावधानियां

जब  आप  ऑफ कॉर्न फ्लोर ( कॉर्नफ्लोर घर में बनाने का तरीका घर में बनाए या फिर उसे बाहर से खरीदें उसके लिए आपको कुछ विशेष सावधानियां रखनी होंगी| 

  1. कभी भी कॉर्न फ्लोर { corn flour को  गिले  डिब्बे में ना रखें इससे  वह  खराब हो सकता है|
  2.  जब भी  कॉर्न फ्लोर ( corn flour  को रखा जाए तो एयर टाइट डब्बे में ही रखना सही रहेगा|
  3.  अगर हो सके तो  हमेशा फ्रीजर में ही रखें.  जिससे उसमें कीड़े ना लग सके|
  4.  कॉर्नफ्लोर ( corn flour के डब्बे में जब चम्मच डाले तो हमेशा सुखी चम्मच ही उपयोग में लाएं| 

कॉर्नफ्लोर में पाए जाने वाले महत्वपूर्ण पोषक तत्व

कॉर्न फ्लोर में कई सारे ऐसे पोषक तत्व है, जो कहीं ना कहीं आपके लिए फायदेमंद होते हैं| 

  1. प्रोटीन
  2.  कार्बोहाइड्रेट
  3.   फैट
  4.  फाइबर
  5.  विटामिन b1 [  थियामाइन]
  6.  विटामिन B2 [ राइबोफ्लेविन]
  7.  विटामिन B3 [ नियासिन]
  8.   कैल्शियम
  9.  आयरन
  10.  पोटेशियम
  11.   फास्फोरस
  12.   जिंक 
  13.  मैग्नीशियम

माना जाता है अरारोट का सब्सीट्यूट 

अगर आपके घर में आरारोट पाउडर नहीं है, ऐसे में आप इस कॉर्नफ्लोर के उपयोग से भी अपने किसी भी  डिश को स्वादिष्ट बना सकते हैं|  क्योंकि कॉर्नफ्लोर का भी वही उपयोग है जो अरारोट पाउडर का होता है ऐसे में निराश होने की जरूरत नहीं है और आप  कॉर्न फ्लोर का इस्तेमाल कर सकते हैं|  साथ ही साथ हमेशा  कॉर्न फ्लोर को anticacking  एजेंट के रूप में भी माना जाता है| 

चिकित्सा के क्षेत्र में भी किया जा सकता है कॉर्नफ्लोर का उपयोग

आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि कॉर्नफ्लोर का उपयोग ना सिर्फ खाने में पशु चिकित्सा के क्षेत्र में भी किया जाता है जहां पर कॉर्नफ्लोर से कई प्रकार के डायाफ्राम और मेडिकल दस्ताने बनाए जाते हैं और इसे anti-stick एजेंट के रूप में उपयोग किया जाता है|  इसके अलावा ब्लड शुगर के स्तर को बनाए रखने के लिए भी कॉर्नफ्लोर का उपयोग किया जाता है जिसमें ग्लूकोस की सप्लाई को उसके गुणों के साथ उपयोग किया जाता है| 

कॉर्न फ्लोर का होने वाला नुकसान

अभी तक हमने आपको कॉर्नफ्लोर से फायदे की बात बताई है लेकिन अब हम आपको इससे होने वाले नुकसान के बारे में भी बताने वाले हैं| 

  1. जब भी आप मार्केट से कॉर्नफ्लोर खरीदते हैं, तो इससे आपको कुछ नुकसान भी हो सकता है क्योंकि मार्केट में बनाकर कॉर्न फ्लोर में कीटनाशक का छिड़काव किया जाता है जो हमारे स्वास्थ्य के लिए बिल्कुल भी सही नहीं होता है|
  2.  कॉर्नफ्लोर में बहुत ज्यादा मात्रा में कैलरी और कार्बोहाइड्रेट  होता है जिससे वजन कम करने में दिक्कत हो सकती है धीरे-धीरे यही आप के बढ़ते हुए पेट का कारण भी हो सकता है|
  3.  ज्यादा कॉर्नफ्लोर के इस्तेमाल कर लेने से आपके शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ जाती है और जिससे आपको  ह्रदय संबंधित समस्याएं भी हो सकती हैं|

मक्के के आटे और कॉर्न फ्लोर में है थोड़ी  असमानता

ऐसा माना जाता है कि मक्के के आटे और कॉर्न फ्लोर में थोड़ी असमानता है और वह इसलिए क्योंकि मक्के का आटा मक्के के दानों को सुखाकर पीसा जाता है, जो कि  दर दरा और पीला  होता है जबकि कॉर्नफ्लोर मक्के की ऊपरी परत को निकालकर पीसा जाता है, जो चिकना और सफेद होता है| 

अंतिम शब्द

इस प्रकार से आज हमने आपको  कॉर्न फ्लोर  से संबंधित  सारी जानकारी दी है,  जिसके माध्यम से आप कॉर्नफ्लोर के बारे में किसी भी गलतफहमी से दूर रह सकते हैं और मन में आ रही आशंका को भी हटा सकते हैं|  आप  इसके माध्यम से स्वादिष्ट डिश बना सकते हैं और  घर   वालों  को सही पोषण  भी दिया जा सकता है बस आपको थोड़ी सावधानी रखने की आवश्यकता होगी|

 उम्मीद करते हैं,  आपको हमारा ये लेख पसंद आएगा इसे अंत तक पढ़ने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद| 

Related posts

बसंत का मौसम Basant ka mausam kab aata hai | spring season in hindi
बसंत का मौसम हमारे देश भारत में कई सारी  ऋतु होती हैं जिनका अलग अलग महत्व होता है|  हर बार जब कोई नई ऋतु आती ...
Lala Lajpat Rai | पंजाब केसरी लाला लाजपत राय
Lala Lajpat Rai का जीवन परिचय हमारा देश लगभग 200 साल तक अंग्रेजों का गुलाम रहा। देश को गुलामी की जंजीरों से बाहर निकालने के ...
kabir das ke dohe | कबीर के 20 बेहतरीन दोहे
कबीर के 20 बेहतरीन दोहे  kabir das ke dohe आज से पहले  भारत में कई ऐसे कवियों ने जन्म लिया, जिनके माध्यम से  हिंदी साहित्य ...
मां के बारे में रोचक बातें | माँ पर निबंध | meri maa par nibandh 15 line
Maa के बारे में रोचक बातें  जिस दिन से हमारा जन्म होता है उस दिन से लेकर हमारे अंतिम सांस तक सबसे पहला नाम जो ...
रहीम का जीवन परिचय | Abdul Rahim Khan
Abdul Rahim Khan का जीवन परिचय भारत के इतिहास में आज तक ऐसे कई महान कवियों ने जन्म लिया है इन्होंने अपने आदर्शों के माध्यम ...

Leave a Comment

error: Content is protected !!